KARMCHARI SANGH

KARMCHARI SANGH

NREGA KARMCHARI SANGH UTTAR PRADESH
Mr. Kamlesh Kumar Gupta - Pradesh Prabhari (Gram Rojgar Sevak Sangh U.P.)
Mr. Devendra Pratap Shahi - Pradesh Adhyaksha (Gram Rojgar Sevak Sangh U.P.)
Mr. Bhupesh Kumar Singh - Pradesh Mahamantri (Gram Rojgar Sevak Sangh U.P.)
Mr. Vishnu Pratap Singh - Pradesh Sangthan Mantri (Gram Rojgar Sevak Sangh U.P.)
Mr. Vinay Dwivedi- Pradesh Adhyaksha ( NREGA Karmik Sangh U.P.)
हमारा सन्देश

प्रिय साथियों व मित्रगण
नरेगा उत्तर प्रदेश कर्मचारी संघ आप का हार्दिक स्वागत व अभिनन्दन करता है


हम आप के आभारी है
यु० पी० नरेगा कर्मचारी संघ
हम सब एक है

हम सब एक है

उत्तर प्रदेश मनरेगा कर्मचारी संघ - जिंदाबाद- जिंदाबाद

एक सन्देश

प्रिय साथियो,
जैसा कि आप सभी को विदित है हम सभी महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजनांतर्गत राज्य शासन द्वारा संविदा आधार पर विभिन्न पदो पर अधिकारी/कर्मचारियो के रूप मे कार्यरत है। इस हेतु राज्य शासन द्वारा हमे निर्धारित वेतन दिया जाता है। हमे शासन द्वारा प्रतिवर्ष या प्रति दो वर्ष मे अनुबंध निष्पादित करना होता है जिसमे राज्य शासन की समस्त सेवा शर्ते लिखी होकर हमे अनुबंधित करती है।
उक्त योजना मे हम सभी अधिकारी/कर्मचारी एक महत्तवपूर्ण भूमिका निभाते है। एवं सर्वाधिक समय लगभग 8-15 घंटे तक लगातार बिना हितकिचाये कार्य करते है लेकिन शासन द्वारा हमे सिर्फ फिक्स वेतन के रूप मे विभिन्न पदो जैसे रोजगार सहायक,अतिरिक्‍त कार्यक्रम अधिकारी, प्रबंधक (मेनेजर), डाटा एण्ट्री ऑपरेटर, केशियर, , सहायक लेखाधिकारी, सहायक मानचित्रकार आदि पदो पर 1500 से लेकर 14000 तकमासिक पारिश्रमिक दिया जाता है जो कि वर्तमान महंगाई के युग में अत्यंत कम है, और उपर से यदि हम छुट्टी पर जाते है तो दस बार ऑफिस से अधिकारियो के फोन घनघनाने लगते है
संविदा शब्द होने से हम सभी डरडर कर काम करते है कि यदि कुछ बोल दिया या किसी भी वजह से काम नही किया या आदेश नही माना या ऑफिस नही गये तो नोकरी से बाहर निकाल दिया जायेगा। ये सभी डर हमारे दिलो दिमाग मे छाये रहते है जिसके चलते ना तो हम घर का काम समय पर देख सकते है, और ना ही स्वयं का। इसके अलावा हमसे होने वाले अनुबंध मे विभिन्न शर्तो का उल्लेख तो होता है पर उनका पालन नही होता। जैसे अनुबंध मे लिखा होता है समयसमय पर राज्य शासन द्वारा बढाया हुआ महंगाई भत्ता, दिये गये आदेश संशोधन इस अनुबंध पर भी लागू होगे। परंतु क्या आज तक ये शर्त लागू हुई है ? क्या आज तक हमे बढा? क्या आज तक हमे राज्य शासन के द्वारा जारी आदेशो का लाभ मिला है ?
इसप्रकार अन्य कई समस्याओ को ध्यान मे रखते हुए आज मैने यह सोचा है कि क्यां ना हम सभी भी संगठित होकर एक बैनर के तले अपनी बात शासन को कह सके। इस हेतु सोचते तो सभी है पर कोई आगे बने की हिम्मत नही करता क्योंकि यह डर हमेशा बना रहता है कि अपने को क्या लेना ? सभी को होगा वही अपना होगा ? यदि कभी इस संबंध में आवाज उठाई तो,नौकरी से बाहर निकाल देगे? इसके साथ ही यदि कोई अन्य साथी यह करने की कोशिश करता है, तो दूसरे उसका मजाक उडाने लगते है बस यही कहते है ज्यादा नेतागीरी नही करना वरना निपट जावोगे। लेकिन यह सब कब तक चलता रहेगा। एक ना एक को तो निर्भिक होकर सामने आना पडेगा ? संघर्ष करना पडेगा।
अभी कुछ समय पूर्व ही राजस्थान मे कार्यरत नरेगा कर्मियो के संगठन बनाकर अपनी मांगो के समर्थन मे राजस्थान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलकर अनिश्चितकालीन हडताल पर चले गये थे जिसमे राजस्थान सरकार को उनके संघर्ष के सामने झुकना पडा और उनकी मांगो को मानना पडा। अधिक जानकारी के लिये आप नरेगा कार्मिक संगठन की वेबसाईट http://nregakcrisangh.hpage.us/ पर पता कर सकते है।
क्योंकि संघर्ष मे ही जीत है और संगठन मे ही शक्ति । जब सरकार गुर्जरो के सामने झुककर आरक्षण दे सकती है ?, सचिवो की हडताल एवं संघर्ष पर उन्हे रेगुलर कर सकती है ? तो हमारे बारे मे क्यो नही सोचेगी ?पर शर्त है कि कोई आगे आये। आज छठे वेतनमान लागू हुए लगभग 1 वर्ष व्यतित हो चुका है तभी से मैं सुन रहा हू अपनी भी फाईल चल रही है वेतन बने वाला है। कोई कहता है, नियुक्ति दिनांक से मिलेगा तो कोई अपे्रेल 2011 से कोई कहता है लेकिन आज तक क्या हुआ कुछ नही हां मिलेगा लेकिन हमारे इस तरह से सुस्त रहने से तो कुछ नही मिलना।
प्रायः यह देखने मे आया है कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजनांतर्गत कार्यरत अधिकारी एवं कर्मचारी अपनेअपने स्तर से पदवार संगठन का निर्माण किया है या कर रहे है जैसे अभियंता संघ, कम्प्युटर ऑपरेटर संघ आदि। चूंकि हम सब एक ही योजना में कार्यरत है तो इसप्रकार से अलगअलग पदनाम से संगठन बनाना या किसी पद विशेष के नाम से संगठन बनाना अनुचित प्रतित होता है। जिसके कारण योजनांतर्गत पदस्थ अमले के अन्य अधिकारीयो एवं कर्मचारियो मे भेदभाव की भावना का जन्म होता है। जो हमारे संगठन निर्माण से पहले ही संगठन में फुट डालने का काम करता है।
अतः मेरा आप सभी महानुभावो से निवेदन है कि कृपया अलगअलग पद विशेष के नाम से संगठन ना बनाते हुए हम सभी को एकजुट होकर एक ही संगठन के रूप मे कार्य करने की अतिआवश्यकता हो गई है। क्योंकि शासन ने आज दिनांक तक हमारी ओर विशेष ध्यान नही दिया है। जबकि उक्त योजना केन्द्र एवं राज्य सरकार की अतिमहत्तवपूर्ण हितग्राहीमूलक एवं सामुदायिकमूलक योजना है।
अतः जब इसी ओर मेरा ध्यान गया तो मैंने सोचा क्यो ना हम सब मिलकर एक संगठन के रूप में एकजुट हो जावे। क्योंकि संगठन में ही शक्ति है। किसी विद्वान ने सही कहा है
' बंधी मुठ्ठी लाख की, खुली तो खाक की। '
इसलिये साथियो अब हमे एक मुठ्ठी की तरह बधकर एकजुट होना होगा। चूंकि जिस योजनांतर्गत ( महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजनांतर्गत) हम कार्यरत है उस योजना मे अत्यधिक कार्य होने के कारण हमे समय की बहुत कमी होती है एवं बहुत सी मुश्किलो का सामना करना पडता है, यहां तक कि दिन तो दिन हमें रातो में भी काम करना पडता है। ऐसी स्थिती में संगठन निर्माण के लिये हम सभी द्वारा समय निकालना एक प्रश्न बन गया है।
इसी विषयवस्तु को ध्यान मे रखते हुए मैंने इस वेबसाईट http://www.nregakarmchariup.webgarden.com/ का निर्माण किया है चूुकि हम सभी अत्यधिक समय हमारे कतर्व्यस्थल पर व्यतित करते है तो वहां इंटरनेट तो उपलब्ध होता ही है जिसके माध्यम से हम सरलता से एकदूसरे से संवाद कर सकते है अथवा आपसी सूचनाओ का आदान प्रदान कर सकते है।
जिंदगी ज़ंग है, ज़ंग ही सत्य है ये ज़ंग ऐ जूनून ही हमारा धर्मं है ।

WELCOME TO NREGA KARMCHARI SANGH UTTAR PRADESH it's site only for nrega contract base employee.FOR ANY PROBLEM YOU CAN CONTACT TO US ON OUR E-MAIL- upmnrega@gmail.com
YOU CAN SEARCH BY THIS NAME ALSO nrega union U.P.,nrega union uttar pradesh,Mnrega union uttar pradesh,mgnrega union uttar pradesh,nrega employees u.p.,nrega employee association up,nrega employee association uttar pradesh,mgnrega karmik,nrega karmic, nrega karmic uttar pradesh , nrega encyclopedia, nrega news up , nrega news in hindi, maha nrega uttar pradesh , nrega maha karmik sang , association of nrega employee up , mgnrega employee welfare association Uttar Pradesh , mgnrega employee welfare association U P , nrega employee association , nrega employee association Uttar Pradesh, uttar pradesh nrega employee association , mgnrega karmchari sangh up , mgnrega karmchari sangh uttar Pradesh, employee union nrega, employee union nrega uttar pradesh
The NREGA in up is working quite well to fill up all the vacancies which are there in different departments. The NREGA UP or NREGA Uttar Pradesh is striving hard to come up with different schemes by which are able to provide employment to all the people who are jobless. In this way they are able to cope with the unemployment situation that is increasing day by day. This is the motive to bring the NREGA in up. With the NREGA UP recruitment or NREGA jobs in Uttar Pradesh several educated people are able to look for jobs that will suit their qualification. It is done to make an effort to make the people employed which in turn will be helpful for the state. The NREGA jobs in Uttar Pradesh are many so the people must try again and again. Through the NREGA UP or NREGA Uttar Pradesh lots of people are benefited thus giving good signs. So the NREGA UP recruitment has proved a boon to the people.

The NREGA UP recruitment programs are organised when the vacancies come up. The NREGA in up is trying its best to get over this problem very soon. Thus it is very important that the unemployed people participate in the NREGA UP recruitment programs or NREGA jobs in Uttar Pradesh. The NREGA UP or NREGA jobs in Uttar Pradesh have given a platform for the people to take a step forward. So now it is time for you to avail the facilities of the NREGA Uttar Pradesh or NREGA UP. For bringing NREGA in up many crucial steps were taken and the government has promised that if they are not able to provide employment then they will give the unemployment allowance. What better one can you expect from NREGA Uttar Pradesh programs.

So if you want to get great results then it is obvious that you have to go for the NREGA jobs in Uttar Pradesh or NREGA in up. The NREGA UP recruitment has provided an option to the people and is still working to get jobs. Thus NREGA Uttar Pradesh or NREGA UP program is the one that will take the state to new heights.
Remmuneration

Remmuneration

क्या हम नियमित होने योग्य है ?

हाँ (1649 | 89%)
नहीं (87 | 5%)
इस फार्म को सावधानी पूर्वक भरे तथा Submit करने के बाद ५-१० मिनट इंतज़ार करे जब तक की कन्फर्मेशन मैसेज न मिल जाये !
दोस्तों!
क्या आप ने मछली को तैरते हुए देखा है ?
शायद आप का जवाब हो, हाँ
पर हम यहाँ आप को अस्वस्त कर देना चाहते है की आप नदी,तालाब ,पोखरे
या अन्य किसी स्थल पर तैरते हुए मछली को देखे होंगे जो पूरी तरह स्वस्थ
और स्वतंत्र होती है,पर हमारी स्थिति इसके विपरीत चुल्लू भर पानी में तड़पने
वाली मछली के सामान है और ऊपर से यह चिलचिलाती धुप और चुल्लू भर
पानी को भी सुखाता ( अवशोषित करता ) हुआ सूर्य !
हम बात कर रहे है अपनी जिसे समुन्द्र नदी और तालाब तो नहीं मिला है
किन्तु भूख और पेट तो हमारे भी उन्ही मछलियों के सामान है, सच कहे तो आज
इस स्थिति में है की हमें विगत दिनों/महीनो से चुल्लू भर पानी भी नहीं मिल रहा है ,

" पर अब हम एक है और पुर्णतः संगठित है और हम इसी तरह मिल कर कार्य करते रहे तो वो दिन दूर नहीं जब नदी में तैरेंगे ही नहीं बल्कि समुन्द्र भी प्राप्त कर सकते है !"



MNREGA Karmchari sangh
Uttar Pradesh ( India )
 चल रहे कार्य :

चल रहे कार्य :

विभिन्न स्थलों पर चल रहे कार्यो की एक झलक
Name
Email
Comment
Or visit this link or this one